BDC Full Form in Hindi - BDC चुनाव की पूरी जानकारी

BDC Full Form in Hindi | BDC Ka Full Form 

BDC का Full Form क्या है अगर आपके मन में भी यह सवाल चल रहा है तो आज हम BDC फुल फॉर्म के बारे में विस्तार से जानेंगे | हमारे देश भारत में अधिकतर लोग गांवों में निवास करते हैं | गांधी जी की विचारधारा के अनुसार गांवों का विकास करने से ही देश का विकास संभव है गांव के विकास के लिए राज्य सरकार समय-समय पर विभिन्न योजनाएं लागू करती रहती है |


गांव का विकास करने के लिए ग्रामीणों द्वारा मिलकर क्षेत्र पंचायत सदस्य BDC को चुना जाता है BDC को गांव के विकास के लिए कई जिम्मेदारियां सौंपी जाती है अब आपके मन में सवाल चल रहे होंगे कि आखिर BDC क्या होता है और BDC का फुल फॉर्म क्या होता है इसी के साथ हम BDC की चुनाव प्रक्रिया, BDC बनने की योग्यता तथा BDC के वेतनमान और कार्यप्रणाली के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे | 





BDC का फुल फॉर्म क्या है-

BDC का पूरा नाम फुल फॉर्म ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल तथा हिंदी में प्रखंड विकास परिषद के नाम से भी जाना जाता है दूसरे शब्दों में से ब्लॉक डेवलपमेंट कमेटी या क्षेत्र पंचायत सदस्य के नाम से भी जाना जाता है |


BDC बनने के लिए आवश्यक योग्यता 

BDC के चुनाव में भाग लेने के लिए अलग अलग राज्य में विभिन्न योग्यता मानदंड निर्धारित की गई है किसी भी राज्य चुनाव आयोग द्वारा न्यूनतम योग्यता को निर्धारित नहीं किया गया है फिर भी कुछ राज्य सरकार BDC पद के लिए न्यूनतम योग्यता लागू करने पर विचार कर रही है ताकि प्रत्येक गांव में शिक्षित BDC का चयन हो सके और आधुनिक विकास की ओर हर गांव अग्रसर हो सके |

Bdc-ka-full-form


BDC बनने के लिए जरूरी दस्तावेज 

किसी भी प्रत्याशी को BDC बनने के लिए निम्न शर्तें जरूरी है -
  • BDC के लिए योग्य उम्मीदवार उसी गांव का मूल निवासी होना चाहिए जहां से BDC पद के लिए आवेदन कर रहा है 
  • सामान्य वर्ग के अलावा अन्य वर्ग के प्रत्याशी के पास जाति प्रमाण पत्र होना चाहिए 
  • उम्मीदवार के पास अपना वैद्य आधार कार्ड और पैन कार्ड होना चाहिए 
  • BDC पद के लिए उम्मीदवार के पास चरित्र प्रमाण पत्र भी होना जरूरी है 
  • BDC पद के लिए उम्मीदवार के पास नामांकन के लिए वैद्य आयु प्रमाण पत्र का होना आवश्यक है 
  • BDC पद के उम्मीदवार के पास सक्रिय मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी होना भी जरूरी है 
  • BDC पद के लिए योग्य उम्मीदवारों को अपनी संपत्ति का सबूत देने के लिए संपत्ति घोषणा पत्र का होना आवश्यक है
  • BDC बनने के लिए योग्य उम्मीदवार का नाम ग्राम सभा की मतदाता सूची में होना चाहिए

BDC पद के लिए चुनाव प्रक्रिया 

BDC पद के लिए चुनाव करवाने की जिम्मेदारी राज्य निर्वाचन आयोग की होती है जो कि हर राज्य में अलग होता है | BDC पद के लिए चुनाव बैलट पेपर के द्वारा संपन्न होते हैं | इस चुनाव में गांव के अंदर विभिन्न वार्ड होते हैं | जिस वार्ड से उम्मीदवार चुनाव लड़ता है उसी वार्ड के मतदाता इस में भाग ले सकते हैं क्योंकि BDC का चुनाव ग्राम सभा में विभिन्न वार्डों के लिए होता है अतः किसी ग्राम सभा में एक से अधिक बीडीसी बन सकते हैं |
जैसे ही वोटिंग प्रक्रिया पूरी होती है तो वोटों की गिनती शुरू हो जाती है फिर जो भी जनता का बहुमत प्राप्त करता है उसे BDC का पद सौंप दिया जाता है | BDC सदस्य को राज्य निर्वाचन आयोग के द्वारा सर्टिफिकेट भी प्रदान किया जाता है फिर ग्राम पंचायत सचिव BDC सदस्यों को शपथ दिलाता है |


BDC पद का वेतन और कार्यकाल

आपके मन में यह सवाल चल रहा होगा कि आखिर BDC बनने के बाद वेतन कितना मिलता है तो आपको बता दें कि देश के किसी भी राज्य सरकार द्वारा BDC पद के लिए निश्चित वेतन निर्धारित नहीं है लेकिन कुछ राज्यों में BDC सदस्य को वेतन के रूप में 4000 से ₹5000 हर महीने प्रदान किए जाते हैं | साथ ही राज्य सरकार की तरफ से BDC को यात्रा भत्ता के साथ-साथ अन्य विभिन्न भत्ते भी प्रदान किए जाते हैं | इसके अलावा BDC अगर पंचायत की बैठक में शामिल होता है तो ₹500 हर मीटिंग में दिए जाते हैं |


BDC के कार्य 

ब्लॉक स्तर पर सारे विकास संबंधी कार्यों की जिम्मेदारी BDC की होती है BDC के कार्यों को कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं द्वारा आसानी से समझ सकते हैं -
  • अपने ब्लॉक में नाली बनवाना मिट्टी भरवाना और साफ सफाई का ध्यान रखना 
  • राज्य सरकार द्वारा गरीबों के लिए लागू विभिन्न योजनाओं को हर ग्रामीण तक पहुंचाना 
  • अपने ब्लॉक के सभी नागरिकों को समय-समय पर शिक्षा व स्वास्थ्य के बारे में जागरूक करना 
  • जिला योजना विकास बोर्ड द्वारा सौंपे गए सभी कार्यों का समय पर पूरा करवाना 
  • विभिन्न सरकारी सुविधाओं का लाभ ब्लॉक के सभी नागरिकों तक पहुंचाना

BDC के अधिकार 

BDC को विकास कार्य के लिए जिला परिषद सदस्य द्वारा हर साल वित्तीय राशि प्रदान की जाती है | 13वें वित्त आयोग के अनुसार BDC को राज्य सरकार द्वारा प्राप्त राशि में से 30% राशि विकास कार्य के लिए प्रदान की जाती थी | बाद में 14 वित्त आयोग ने BDC को दिए जाने वाले बजट बंद कर दिया |


विभिन्न क्षेत्रों में BDC का फुल फॉर्म

आपने अभी तक BDC के बारे में विस्तार से समझ लिया होगा लेकिन विभिन्न क्षेत्रों में BDC का मतलब अलग अलग होता है तो उन विभिन्न क्षेत्रों में BDC का मतलब विस्तार से जान लेते हैं -

(1) BDC Full Form in Panchayat (Politics)

पॉलिटिक्स में BDC का फुल फॉर्म होता है - ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल जिसका अर्थ होता है प्रखंड विकास परिषद | इसके अलावा BDC का मतलब ब्लॉक डेवलपमेंट कमेटी भी होता है |

(2) BDC Full Form in Computer 

कंप्यूटर में BDC का फुल फॉर्म - Backup Domain Controller होता है जो यूजर को वेरीफाई करता है | वह यूज़र के खाते की जानकारी को स्टोर करता है |

(3) BDC Full Form in SAP ABAP 

SAP और ABAP आप दोनों सॉफ्टवेयर है जो किसी कंपनी के कार्यों को आसान कर देते हैं | SAP में BDC का फुल फॉर्म - Batch Data Communication होता है | SAP और ABAP किसी कंपनी के उत्पादों की गुणवत्ता पर ध्यान रखने के लिए काम आता है

(4) BDC Full Form in Business

बिजनेस में BDC का पूरा नाम होता है - Business Development Company | बिजनेस डेवलपमेंट कंपनी संयुक्त राज्य में एक निवेश कंपनी है जो छोटे और मध्यम उद्योगों में निवेश करती है |


तो दोस्तों आपने BDC फुल फॉर्म के बारे में अच्छे से अध्ययन कर लिया होगा | इस पोस्ट के माध्यम से पीडीएस फुल फॉर्म से संबंधित सभी सवालों के जवाब आपको मिल चुके होंगे तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और इसी तरह की विभिन्न जानकारियों के लिए हमारी वेबसाइट पर नियमित रूप से वेट करते रहे 
Tags

Post a Comment

0 Comments